Ratnakar Mishra

11/21/2012

शहर

Filed under: Social issue — ratnakarmishra @ 8:28 pm

एक शहर सोया -सोया सा
न जाने किसकी यादो मैं खोया सा
नीद ऐसी की जोर से दस्तक देने से न टूटे
खराटें की गूंज ऐसी की कानो को फाड़े डाले
इस बीच देखो ये कौन अजनबी चला आ रहा है
कंधे पर बैग डाले आँखों मैं सपने लिए
झूमते मचलते हुए चला आ रहा है
सपनो के इस शहर मैं अपने सपने सच करने
चलो कल से ये भी इसी भीड़ का हिस्सा होगा
और फिर अपने सपने मैं सपने को पायेगा …

 

 

Advertisements

Leave a Comment »

No comments yet.

RSS feed for comments on this post. TrackBack URI

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Create a free website or blog at WordPress.com.

%d bloggers like this: